मैनें कहां वक़्त से, 

रुक-रुक के चल।

ईन्सांन हुं, रहों में काटें बहुत है।

Share
Loading Likes...